लिट्टे की तर्ज पर नक्सलियो द्वारा दंतेवाडा की नक्सल विडियोग्राफी

वीडियो में एक आवाज पहचान ली गई है। यह आवाज तिरुपति उर्फ देवजी की है। केन्द्रीय समिति का यह सदस्य हमले के वक्त निर्देश दे रहा था।

सूत्रों के मुताबिक यह वीडियो नक्सलियों की, अपने काडर को कार्रवाईयों के ब्यौरे दिखाने की रणनीति का हिस्सा है। एक पूर्व नक्सल रामन्ना ने कहा- ऐसे वीडियो आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद करते हैं।
(विडियो लिंक उपलब्ध नही है)


साथ ही "बंगाल में भी सलवा जुड़ूम शुरू
समचार लिंक - 

लिट्टे की तर्ज पर नक्सलियो द्वारा दंतेवाडा की नक्सल विडियोग्राफी 
http://www.dailychhattisgarh.com/today/Page%201.pdf

धुरंधर लिख्खाड ब्लॉगिंग छोड ही नही सकता

कल से हिन्‍दी ब्‍लाग जगत में भूचाल आया है, क्‍योंकि धुरंधर लिख्खाड ललित शर्मा नें ब्लॉगिंग को अलविदा कहा है. ललित भाई के ब्लॉगर मित्र रूक रूक कर इस विषय को अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्दा बनाने के लिए पोस्‍ट रूपी गोला बारूद छोड रहे हैं और सुना है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अपना विदेश दौरा रद्द कर वापस भारत आ रहे हैं कल इस मसले पर केबिनेट की मीटिंग में भाग लेने एवं ललित भाई नें ब्लॉगिंग को अलविदा क्‍यूं कहा इसके लिए एक जांच आयोग बिठाने की मांग विरोधी पक्षों नें की है जिस पर प्रधान मंत्री शीध्र ही निर्णय लेने वाले हैं. 

अब जो भी हो, अटकलों का बाजार मौसम के अनुसार गर्म है, ब्लॉगिंग पर मेरा अनुभव कहता है कि ललित भाई जैसे सक्रिय ब्लॉगर, ब्लॉगिंग हरगिज नहीं छोड सकते. हो सकता है वे वापस आयेंगें, या ललित शर्मा किसी और नाम से अवतरित होगें. पर किसने क्‍या कहा था से परे ललित शर्मा जी ब्लॉगजगत में बने रहेंगें . 

इधर विश्‍वस्‍थ सूत्रों का कहना है कि बराक ओबामा ललित भाई के इस निर्णय से बहुत खुश हैं क्‍योंकि पिछले दिनों फौज से रिटायर्ड (भगौडे नहीं)चौकीदारों की भरती के लिए किसी ब्लॉग में विज्ञापन प्रकाशित हुआ था उसके लिए संभवत: ललित भाई नें अपना रेज्‍यूम भेजा था जो किस्‍मत से बराक ओबामा के हांथ लग गया था और उन्‍होंनें ललित भाई को अपना विशेष सुरक्षा सलाहकार बनने का आफर दिया था पर ललित भाई हैं कि ब्लॉगिंग को अलविदा कह ही नहीं रहे थे. चौबीस घंटे में से अट्ठारह घंटे ब्लॉगिंग करते थे. ललित भाई के वर्तमान निर्णय से बराक ओबामा के बल्‍ले बल्‍ले हो रहे हैं. .

बस्‍तर ... बस्‍तर ...... हालात दिन ब दिन बदतर

"अंधेरे को कोसने से दिया नहीं जल जाता."
पर हम कर भी क्‍या सकते हैं ?

संगी-साथी

ब्‍लॉगर संगी