छतीसगढी लघु कथा : कोंन नामवर सिंह ?

पुन्नी के दिन मोर घर सतनरायेन के कथा होये रहिस. वोमा मोर परोसी बलाये के बाद घलव नई आये रहिस. मोर सुवांरी बने मया कर के परसाद ल मोर टेबल में माढे कागज में पुतिकिया के रौताईन (शहर में काम करईया बाई मन ल हमन अपन मन मढाये बर अईसनहे रौताईन कथन काबर कि बम्हनौटी बांचे रहे कहि के) के हांथ परोसी के घर भेज दिस.

कथा पूजा के बाद मैं हर हरहिंछा उपरोहिता बाम्हन ल दान दक्षिणा देके बने खुश करा के अउ टें टें के अपन आप ल बकिया तिवारी वेदपाठी बाम्हन बतात बतात उपरोहिता बाम्हन के चेहरा म अपन आप ल एक आंगुर उपर बैठारत भाव ल खोजत अपन कुर्सी टेबल म बैठेंव त मोर होश उठा गे.

मोर जम्मो लिखना ल तो मोर सुवांरी बोहायेच दे रहिस फेर मोर इंदौर के इतवारी भास्कर में छपे जुन्न्टहा एक ठन कहानी के बारे म टीका टिपनी डा नामवर सिंह हा मोला भेजे रहिस तउन चिट्ठी ला मैं ह अपन टेबल के उपरेच में रखे रेहेंव काबर कि कथा सुनईया अवईया मन ह ओला देखही त मोर बर उखर सम्मान बाढही कहि के,

टेबल ले चिटठी गायब ! घर के जम्मो मनखे मन ल पूछ डारेंव पता चलिस परसाद ह चिट्ठी के पुतकी म बंधा के परोसी घर पहुंच गे हे तुरते परोसी घर चल देंहेंव फेर कईसे कहंव परसाद ल वापस कईसे मांगव दरवाजा म खडे गुनत रहंव तईसनहे बद ले परसाद के पुतकी ह बाहिर खोर म गिरीस परोसिन ह बडबडा बडबडा के परसाद ल फेंक दिस, मैं मारे खुशी के पुतकी कोती दौंडेव ओखर पहिली ले कुकुर ह टप्प ले पुतकी ल झोंक लिस मोर हात हुत कहत ले पुतकी तार तार होगे.

बडका कोहा उठायेंव अउ कुकूर के मूडे ल देंव ! कांय कांय !

मोर अंतस रो दिस वो चिट्ठी ल मैं हर अपन बीते दिनन के निसानी के रूप म रखे रेहेंव हाय !
घर लहुट गेंव कुकुर के कांय कांय बंद नई होईस

घर आके सोंचेंव वा रे सतनरायेंन के भगत
तोर धरवाली परसाद वोला दिस जेखर मन म भगवान बर सरधा नई हे
वुहु परोसी भगवान के परसाद ल फेंक दिस लीलावती कलावती कनिया के कहिनी से बेखबर
कुकुर बड सरधा से खात रहिस वो का जानैं बिचारा कि परसाद ह मोर सम्मान में बंधाये हे
मैं कथा कहवईया ह वोला मार देंव नई खान देंव
फेर वो कुकूर बिचारा का जानैं
कोंन नामवर सिंह अउ कोन लीलावती ?

संजीव तिवारी

No comments:

Post a Comment

.............

संगी-साथी

ब्‍लॉगर संगी