मोर संग चलव रे

छत्तीसगढ के जनगीतकार लक्ष्मण मस्तुरिहा के साथ संजीव तिवारी एवं संजीत त्रिपाठी जीवंत कविता पाठ सुने रवि रतलामी जी के रचनाकार में Tags: लक...
Read More
चिनहा

चिनहा

चिनहा - संजीव तिवारी कईसे करलाई जथे मोर अंतस हा बारूद के समरथ ले उडाय चारो मुडा छरियाय बोकरा के टूसा कस दिखत मईनखे के लाश ला देख के माछी भि...
Read More
सुरहुत्ती

सुरहुत्ती

सुरहुत्ती - संजीव तिवारी कहां ले बरही मनटोरा तोर तेल बिन दिया ह सुरहुत्ती के दिया ह दाउ मन बर ये मोर करम म त सिरिफ मोर मेहनत के चूहे तेल अ...
Read More
मोर सोंच मोर छत्तीसगढी

मोर सोंच मोर छत्तीसगढी

छत्तीसगढी भासा बोलैया समझैया मन ला मोर जय जोहार मोर मन हा छत्तीसगढी बोले पढे लिखे म अडबड गदगद होथे, काबर नई जानव ? फ़ेर सोचथो मोर जनम इहि छत...
Read More

संगी-साथी