विकास के राह में धोबी : तीन चित्र

आपने अपने बचपन में धोबी और उसके गधे के संबंध में मजेदार कहानियॉं सुनी होगी, कहानियॉं याद हो कि न हो पर गधे और धोबी का संबंध तो याद ही होगा. हो सकता है कुछ लोगों नें धोबी को गधे के पीठ पर कपड़ा लादे लाते ले जाते प्रत्‍यक्ष देखा भी होगा. जमाना बदल गया है धोबी ड्राईक्‍लीनर्स और उनका दुकान अब लांड्री हो गया है. बदलते जमाने के साथ ही गधा भी धोबियों की पकड़ से दूर हो गया है. विकास के राह में धोबी और गधे के चित्र देखें-


धोबी जी का गधा है हमारा बजाज


श्रीमान ड्राई क्‍लीनर्स महोदय

अब इंतजार ही शेष है

5 comments:

  1. बात मुख़्तसर ये कि पीने वाले गधे ने , खाने वाले गधे को निपटा दिया :)

    ReplyDelete
  2. हा हा हा
    कुल मिलाकर दोनो ही गधे हैं।
    लेकिन धोबी होशियार है।

    ReplyDelete
  3. दोस्त दोस्त न रहा प्यार प्यार न रहा
    ज़िंदगी हमें तेरा एतबार न रहा एतबार न रहा

    ReplyDelete
  4. shandar nazar,samay ke badlav par bahut sahi nazar...

    ReplyDelete
  5. गधा - भूत
    स्कूटर - वर्तमान
    कार - भविष्य
    कुछ नहीं - परा भविष्य (लोग कपड़े ही नहीं पहनेंगे। न धोबी की ज़रूरत और न गधों की जमात की :))

    ReplyDelete

.............

संगी-साथी

ब्‍लॉगर संगी