मानव 2

अपने भीतर के कल्‍मष को
अब तक मनुज नहीं धो पाया
अपने व्‍यवहारों को उसने
नया मुखौटा है पहनाया
पाषाणी मानव के भीतर,
अपनापन कुंटित प्रतिपल है.

विद्या भूषण मिश्र 
-----

No comments:

Post a Comment

.............

संगी-साथी

ब्‍लॉगर संगी