ढाल

बढता नाविक
क्षितिज के पार
समुद्र की लहरें विशाल
कलम जिसकी ताकत
मानस की प्रतिबद्धता
है उसकी ढाल.

संजीव तिवारी

1 comment:

.............

संगी-साथी

ब्‍लॉगर संगी