जिस तरह पत्र के लिए काम करना पत्रकारिता है तो विभिन्‍न पत्रिकाओं के लिए काम करने को पत्रिकाकारिता नहीं कहा जाना चाहिए?

जिस तरह पत्र के लिए काम करना पत्रकारिता है तो विभिन्‍न पत्रिकाओं के लिए काम करने को पत्रिकाकारिता नहीं कहा जाना चाहिए?

पराग, दिनमान और धर्मयुग जैसी लोकप्रिय रहीं पत्रिकाओं के संपादक रह चुके कन्हैया लाल नंदन के दुखद निधन पर उन पत्रिकाओं की बेवक्त की मौत भी याद...
Read More

सिक्किम पर रे की फिल्म से 40 साल से लगी रोक हटी

सत्‍यजीत रे भले ही भारत के सबसे मशहूर फिल्मकारों में से एक हैं, लेकिन भारत सरकार ने सिक्किम पर उनकी बनाई हुई दस्तावेजी फिल्म 1971 में प्रतिब...
Read More
आपका भी ब्लॉग प्रिंट मीडिया पर : एक अखबार की अपील

आपका भी ब्लॉग प्रिंट मीडिया पर : एक अखबार की अपील

अयोध्या विवाद पर 24 सितंबर को फैसला आनेवाला है, इस पर आप क्या सोचते हैं, इस मुद्दे पर हर पक्ष की ओर से हंगामा होता रहा है। कोर्ट का आदेश आने...
Read More
लिंक पे लिंक बनाते चलो ब्‍लॉग में ट्रैफिक बढ़ाते चलो

लिंक पे लिंक बनाते चलो ब्‍लॉग में ट्रैफिक बढ़ाते चलो

किसी ब्‍लॉग या वेब साईट में ट्रैफिक बढ़ाने के ट्रिक में सर्च इंजन आप्‍टमाईजेशन (सीओ) टूल के महत्‍व को तकनीकि विशेषज्ञ गाहे बगाहे बतलाते रहते...
Read More

संगी-साथी