जिस तरह पत्र के लिए काम करना पत्रकारिता है तो विभिन्‍न पत्रिकाओं के लिए काम करने को पत्रिकाकारिता नहीं कहा जाना चाहिए?

पराग, दिनमान और धर्मयुग जैसी लोकप्रिय रहीं पत्रिकाओं के संपादक रह चुके कन्हैया लाल नंदन के दुखद निधन पर उन पत्रिकाओं की बेवक्त की मौत भी याद पड़ती है और पत्रिकाओं की पत्रकारिता करने वाले लोगों के लिए एक नया शब्द भी सूझ रहा है .... सामान्‍य बोलचाल की भाषा में पत्र-पत्रिका का मतलब (समाचार) पत्र और पत्रिका होता है तो समाचार पत्र के लिए काम करने वाले को पत्रकार कहने की तरह पत्रिका के लिए काम करने वाले को पत्रिकाकार नहीं कहा जाना चाहिए? .... और जिस तरह पत्र के लिए काम करना पत्रकारिता है तो विभिन्‍न पत्रिकाओं के लिए काम करने को पत्रिकाकारिता नहीं कहा जाना चाहिए?
अपने विचार हमें भेजें, आपके ब्‍लॉग के लिंक के साथ इसे छापकर हमें खुशी होगी।

डॉ. निर्मल साहू, दैनिक छत्‍तीसगढ़, रायपुर.

आरंभ म पढ़ें :-
कोया पाड : बस्‍तर बैंड
गांव के महमहई फरा

सिक्किम पर रे की फिल्म से 40 साल से लगी रोक हटी

सत्‍यजीत रे भले ही भारत के सबसे मशहूर फिल्मकारों में से एक हैं, लेकिन भारत सरकार ने सिक्किम पर उनकी बनाई हुई दस्तावेजी फिल्म 1971 में प्रतिबंधित कर दी थी। रविन्‍द्रनाथ ठाकुर के बाद सिक्किम पर बनाई गई यह फिल्म, उनकी दूसरी दस्तावेजी फिल्म थी जिस पर से विदेश मंत्रालय ने 40 साल से लगा प्रतिबंध उठाने का फैसला किया है। इसके बाद यह फिल्म सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित की जा सकेगी। रे के पुत्र संदीप रे, जो कि खुद भी एक फिल्मकार हैं, के मुताबिक यह फिल्म सिक्किम के आखिरी चोग्‍याल( राजा) पाल्देन थोंडुप नामग्‍याल और उनके अमरीकी रानी होप कुक ने बनवाई थी।

ललित शर्मा जी के वेब पोर्टल ललित कला डाट इन का लोकार्पण : चित्रों के साथ रिपोर्टिंग

ललित शर्मा जी के वेब पोर्टल ललित कला डाट इन का लोकार्पण छत्‍तीसगढ़ के यशश्‍वी मुख्‍यमंत्री डॉ.रमन सिंह नें आज प्रात: मुख्‍यमंत्री निवास में किया। इस अवसर पर केबिनेट मंत्री हेमचंद यादव, वरिष्‍ठ भाजपा नेता अशोक बजाज जी, पूर्व विधायक शिवरतन शर्मा जी, जी.के.अवधिया जी एवं अन्‍य गणमान्‍य उपस्थित थे।


मुख्‍य मंत्री करेंगें ललित शर्मा जी की वेब पोर्टल ललित कला डाट इन का लोकार्पण

हिन्‍दी ब्‍लॉग जगत के जाने माने ब्‍लागर ललित शर्मा जी नें ललित कला को बढ़ावा देनें के उद्देश्‍य से एक वेब पोर्टल ललित कला डाट इन का निर्माण किया है जिसमें भारतीय कलाओं के संबंध में एवं कलाकारों के संबंध में जानकारी होगी साथ ही इसमें भारत के प्रत्‍येक राज्‍य व अंचलों के प्रसिद्ध हस्‍त कला और कुटीर उद्योगों के उत्‍पादों की उपलब्‍धता के संबंध में भी जानकारी होगी जिससे कि इच्‍छुक क्रेता सीधे कारीगर से संपर्क कर अपने पसंद की वस्‍तु क्रय कर सकेगा। ललित भाई इस पोर्टल में इतनी विशद सामाग्री डालना चाहते हैं जिससे कि यह भारतीय कला व कलाकारों  के कोश के रूप में उपलब्‍ध हो।

आपका भी ब्लॉग प्रिंट मीडिया पर : एक अखबार की अपील

अयोध्या विवाद पर 24 सितंबर को फैसला आनेवाला है, इस पर आप क्या सोचते हैं, इस मुद्दे पर हर पक्ष की ओर से हंगामा होता रहा है। कोर्ट का आदेश आने से पहले सरकार को क्या करना चाहिए? इसके अलावा अन्य पहलुओं पर जो आप सोचते हैं, अपने विचार हमें भेजें, आपके ब्‍लॉग के लिंक के साथ इसे छापकर हमें खुशी होगी।

यदि आपने इस संबंध में कोई पोस्‍ट अपने ब्‍लॉग पर पब्लिश किया है तो उसका लिंक यहां टिप्‍पणी में देवें, ताकि हम उस पोस्‍ट को प्रकाशित कर सकें।
डॉ. निर्मल साहू,
यहां अपने विचार टिप्‍पणी में देवें या मेल करें - newsdesk.chhattisgarh@gmail.com

एक नानवेज टाईप पोस्‍ट : क्षमा सहित.

लगभग पांच साल पहले मैं अपने एक होटल प्रबंधक मित्र के साथ मुम्‍बई गया था, हम दोनों को एक कम्‍पनी में काम था। मुझे एक संस्‍था के वाणिज्यिक परिसर में उक्‍त कम्‍पनी के किराये के कार्यालय से संबंधित कुछ कानूनी कार्य था और मित्र को अपने मित्र के परिसर में उस कम्‍पनी के किराये से संबंधित कुछ अन्‍य कार्य था। उस कम्‍पनी के लिए हम दोनों एक दूसरे के पूरक थे इसलिए हम दोनों साथ हो लिए थे। उस कम्‍पनी में लगभग सारे कर्मचारी महाराष्‍ट्र मूल के हैं और उस कार्यालय की बोलचाल की भाषा भी मराठी थी, मित्र मराठी भाषा भासी था, मैं पेशे से अधिवक्‍ता।

लिंक पे लिंक बनाते चलो ब्‍लॉग में ट्रैफिक बढ़ाते चलो

किसी ब्‍लॉग या वेब साईट में ट्रैफिक बढ़ाने के ट्रिक में सर्च इंजन आप्‍टमाईजेशन (सीओ) टूल के महत्‍व को तकनीकि विशेषज्ञ गाहे बगाहे बतलाते रहते हैं साथ ही लिंक पे लिंक बनाते चलो ब्‍लॉग की रेंकिंग बढ़ाते चलो भी कहा जाता है जिसके सराहे विभिन्‍न वेब साईटों और ब्‍लॉगों से सीधे एवं सर्च इंजनों के माध्‍यम से ट्रैफिक आपके ब्‍लॉग पर खिंची चली आती है (यह ध्‍यान रहे ट्रैफिक का मतलब पाठक नहीं होता)। अगले किसी पोस्‍ट में हम एक विशेष ब्‍लॉग के चर्चा और सहयोगी ब्‍लॉग के सहारे बनते लिंकों और चढते ग्राफों की आनुपातिक सांख्यिकीय गणना के साथ साक्ष्‍य सहित चर्चा करेंगें.  अभी हमने अपने ब्‍लॉग आरंभ के इस वर्ष जनवरी से पोस्‍ट लिंकों को जांचने के लिए चिट्ठाजगत का सहारा लिया जिसमें मित्रों के ब्‍लॉगों के साथ ही सर्वाधिक हिट प्राप्‍त चर्चा ब्‍लॉगों में अपने पोस्‍ट लिंकों का आकड़ा जुटाया जो इस प्रकार है -  

22-8-2010 को चिट्ठा चर्चा... पर Raviratlami
5-8-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर ललित शर्मा
21-7-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर ललित शर्मा
8-7-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
7-7-2010 को चिट्ठा चर्चा... पर अनूप शुक्ल
6-7-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
5-7-2010 को चिट्ठा चर्चा... पर अनूप शुक्ल
19-5-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
16-5-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर ललित शर्मा
16-5-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
15-5-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
14-5-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
7-5-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
8-5-2010 को चिट्ठा चर्चा... पर मनोज कुमार
1-5-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर सूर्यकान्त गुप्ता
28-4-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
21-4-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
16-4-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
13-4-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
11-4-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर संगीता पुरी
7-4-2010 को चर्चा हिन्दी चिट्ठों की !!!... पर ललित शर्मा
7-4-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
6-4-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
26-3-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
27-3-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
28-3-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
29-3-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर संगीता पुरी
24-3-2010 को चर्चा हिन्दी चिट्ठों की !!!... पर ललित शर्मा
23-3-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर राजकुमार ग्वालानी
15-3-2010 को ब्लॉग 4 वार्ता... पर ललित शर्मा
8-3-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
19-2-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
23-2-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
19-2-2010 को चिट्ठा चर्चा... पर मसिजीवी
26-1-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
22-1-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
17-1-2010 को चर्चा मंच... पर डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

चिट्ठा चर्चा में 5 पोस्‍टों की चर्चा
ब्‍लॉग4वार्ता में 16 पोस्‍टों की चर्चा
चर्चा मंच में 13 पोस्‍टों की चर्चा
चर्चा हिन्‍दी चिट्ठों की में 2 पोस्‍टों की चर्चा

वर्ष 2010 के सात महीनों में ललित शर्मा जी का ब्‍लॉग4वार्ता में आरंभ के 16 पोस्‍टों की चर्चा की गई -

मार्च - 3 पोस्‍टों की चर्चा 1 संगीता पुरी जी, 1 ललित शर्मा जी, 1 राजकुमार ग्‍वालानी जी द्वारा
अप्रैल - 6 पोस्‍टों की चर्चा 1 संगीता पुरी जी, 1 सूर्यकांत गुप्‍ता जी, 4 राजकुमार ग्‍वालानी जी द्वारा
मई - 5 पोस्‍टों की चर्चा 1 सूर्यकांत गुप्‍ता जी, 4 राजकुमार ग्‍वालानी जी द्वारा
जून - एक भी पोस्‍ट की चर्चा नहीं की गई
जुलाई - 1 पोस्‍ट की चर्चा ललित शर्मा जी के द्वारा की गई
अगस्‍त - 1 पोस्‍ट की चर्चा ललित शर्मा जी के द्वारा की गई

कुल मिलाकर इस वर्ष के सात महीनों में सभी चर्चा-ब्‍लॉगों में सबसे ज्‍यादा मेरे 13 पोस्‍टों की  चर्चा की डॉ.रूपचंद शास्‍त्री जी नें, दूसरे नम्‍बर पर रहे राजकुमार ग्‍वालानी जी नें 9 पोस्‍टों की चर्चा की, ललित शर्मा जी नें 6, अनुप शुक्‍ल जी नें 2,  सूर्यकांत गुप्‍ता जी नें 2 और संगीता पुरी जी नें 2, रवि श्रीवास्‍तव जी नें 1, मनोज कुमार जी नें 1 व मसिजीवी जी नें 1 पोस्‍ट की चर्चा की.  आप सभी इसी तरह से मेरे पोस्‍टों का लिंक पे लिंक बढ़ाते चलें, आप सभी को मैं हृदय से धन्‍यवाद ज्ञापित करता हूं जो आपने मेरे पोस्‍टों को इस योग्‍य समझा। 

संजीव तिवारी   

संगी-साथी

ब्‍लॉगर संगी