कतरन : बंदरों की नाटक कम्‍पनी


साभार दैनिक छत्‍तीसगढ़

आरंभ में पढ़ें  बस्‍तर बैंड

4 comments:

  1. अच्छी जानकारी है ........


    मेरे ब्लॉग कि संभवतया अंतिम पोस्ट, अपनी राय जरुर दे :-
    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/blog-post_15.html

    ReplyDelete
  2. बड़ी रहस्यमयी पोस्ट है पर उसे गाते देखना अच्छा लग रहा है :)
    कहीं ये कतरन आपनें जानबूझकर तो नहीं लगाई ?

    ReplyDelete
  3. बताईये, हम अपने देश की देख कर खुश हैं।

    ReplyDelete
  4. कैसे पता चले की यह thaailaundiya / बंदरिया कटखनी तो नहीं है ! :)

    ReplyDelete

.............

संगी-साथी

ब्‍लॉगर संगी