सयंबर : कलजुग के सीता-राम उतरिन घुमका के अंगना

पाछू पंद्रही ले दुरूग के घुमका गांव ह गजट अउ टीभी म छाये रहिसे काबर कि उहां के एक झिन कैना ह तरेता जुग के सयंबर के कहिनी ला कलजुग म सिरतोन करे बर परन कर डारिस । कि बिहाव करिहौं त उही बर संग जउन हा मोर सवाल के जवाब ल भरे सभा म देही । अउ जुर गे तीस हज्जार मनखे, भरे सभा म ओखर सवाल के जवाब ल देईस राणा खुज्जी गांव के घनाराम भुरकुटिया ह । अब जवाब सहीं रहिस कि गलत तउन ला तो अन्नपूर्णा च ह जानही । फेर ओला बर पसंद आगे चुन लिस अपन पसंद के बर, कर लिस सयंबर । बोलो सियाबर रामचंद्र की जय ।



'क्षिति जल पावक गगन समीरा, पंच रचित यह अधम शरीरा ।' रमायेन के चउपाई ल सवाल बना के पूछे गीस उत्तर संस्कृत म मिलिस । का उत्तर दिस घनाराम भाई ह तउन ला कहूं आप मन जानत होहूं त बताहू ।


आज दूनों के समाज के नियम से बिहाव होगे ।
दूनों झन ला हमार अशीस ।
बने खावव, पहिनव अउ समाज में बगरे बिसराये लईक नियम मन के बिरोध खातिर कमर कस के अउ कछोरा भिर के आघू आवव, तभे तुंहर मान ह बने रहिही ।
नई तो चरदिनिया चंदैनी फुसक जही ।


ये संबंध म मेकराजाला म हमर छत्तीसगढ के बेटी माया ठाकुर ह घलोक अपन पतरा म लिखे हे एक नजर देख लेवव ।
(चित्र 'छत्तीसगढ से साभार)

2 comments:

  1. बने कहेव भैय्या फ़ेर येमन जादा रमायण देख डारिन त‍इसने लागथे !चलो इही बहाना घुमका ला अ‍उ अन्न्पुर्णा ला सरी दुनिया जान डरीस एखर ले जादा उपलब्धी त मोला एमा न‍इ दिखय !

    ReplyDelete
  2. सयम्बर कलजुग के सीता-राम .........
    संजीव भाई एकर पाछू कोनो उद्येश्य दिखे नहीं... सयम्बर कारिएया नोनी जरुर ड्रामा के पाछू के बात बर कुछु अंजोर कर सकत हे....! खईता कह लव..

    ReplyDelete

.............

संगी-साथी

ब्‍लॉगर संगी