बियंग : मोबाईल मास्‍टरिन

मास्‍टर क‍हे के मतलब, मास्‍टर माइंड नो हे, फेर आजकल तो कलजुगी इस्‍टाईल के गुरू हर, अपन ला चाल्‍स सोभराज ले कोन्‍हों कम नई मानय । फोकट चंद अउ घिस ले चंदन, ऐमन ला पोगा पंडित अउ भकला महराज के उपाधि ले घलो नवाज अउ जाने जाथय । फेसन के चिखला सहर, महानगर भर मा हावय, अइसन न हे, आज के माहोल मा तो गली-कूचा अउ खोर-खोर मा येहा बगरे हावय । तेमा कोन कहाय, ओ चिपरू, मंदू अउ लडबडहा मनखे मन करा घला खिसा मा मोबाइल ह चटके रहिथय । इसकूल म मोबाइल के परितबंध कानून कइ घांव बनिस अउ बनते रही, फेर कब पुख्‍ता बनही फेर नई, तेला तो बडका गुरू रइपुर वाला मन जानही । कहे भर मे अउ कागद में गोल-गोल रानी, इता-इत्‍ता पानी के खेल खेले मा, लइकामन का, कोनो नइ अघाय । अइसे कर सिकछा विभाग के करम हावय ।


गांव तीर के इसकूल अउ ओमा नवां-नवां मटमटही फेसनहिन अउ चमकूलहिन मेडम के पोस्टिंग हावय । दसबज्‍जी इसकूल आय फेर गियारा बजती मा, रोज दिन चपरासी फिरंता करा फून आही - इसकूल खुल गे का ? पराथना होगे का ? अउ मेडम मन आ गे का ? गोल्‍लर गुरूजी आगे का ? मोर ककछा के सब्‍बो झन लइका मन आये हे का ? अउ रंग रंग के परसन ला सुनत-सुनत फिरंता के मइनता डोल जथय ।

निस दिन नवां-नवां, रंग बिरंगी बहाना - आज हेड आफिस जावत हों, राज सर संग ओखर फटफटी मा आहूं । मोर गरहजरी झन लगाही कोनो हा । उहिती एसकालर सिप अउ कनिया परोतसाहन के रकम के जानकारी घलो लेना हे । लइका मन के कापी ला तिही हा जांच देबे, अउ बाठू गुरूजी काहीं कही त फेर में हा आके ओखर ले निपटत रहूं । अवइ-जवइ मा दू घंटा पहा गय, त इसकूल के डेरउठी मा पहुंचिन हावय । आते साथ मधियान भोजन झडकिन, पेट थोरकन अघाईस अउ अगया कम होइस त रंधइया ला मार बखान डारिस - रोज दिन उही कोचरहां आलू अउ सोयाबीन बरी ला देख डारे हे । सरकार कतकोन पुरोही फेर इखर नियत खोट्टी, कभू कम नइ होवय । जब रांधही ते फकत सरहा-गलहा ला, सम्‍मार होवय चाहे सनिच्‍चर, इखर सरी दिन सनी माढे रहिथय । फेर काय करबे खायेच ल परथे, तिर-तखार मा कोनो किरहा-खद्दू, भडू मन के होटल ढाबा घलो नइ हावय ।

इसकूल के आधा बेरा ढरक गे त  मेडम जी हा किलास रूम मा आइस, लइका मन ला बड खुसी मा जय हिंद मेडमजी कहि के सांस भर मा कोल-बील कस जय हिंद मनइस । ततकेच बेरा मेडम के बेग मा माढहे मोबाइल के घंटी बाजे लागिस - करेजी किया रे, घेरी बेरी किया रे .... काय करेजी ते । मेडम बोलिस - हलो, मेहा मोंगरा बोलत हंव । ओती ले बवाज अइस - मेहा तोर दाई ओ बेटी । काय करत हस ओ, तोर इसकूल खुलगे का ? - पांव परत हों दाई, ददा के जर हा बने होइस का ? अउ नवां भउजी के लेवइया मन आगे का ? अउ छोटे बहिनी दसमत ला कब लेबर जाहू ? अब सूरू होइस ते कहां रबकने वाला हे, आधा-पउन घंटा-दू घंटा बीत गेय । एती चपरासी ह पूरा छुट्टी के घंटा घलो बजा डारिस । अइसे-तइसे इसकूल के पढई चलत हावय । फेर कोनो ला काहीं सिकायत नइ हे । काबर कि मेडम आये त, गांव भर के मनखे ला बड निक लागय अउ इसकूल ह घलो गदगद बोलथय । अब गांव-गांव के सरकारी इसकूल घलो, हाइटेक होगय हावय । इही ला तो कहिथय - नवां बिहान होगय ।

राजाराम रसिक
Share on Google Plus

About Sanjeeva Tiwari

7 टिप्पणियाँ:

  1. स्वतंत्रता दिवस की बहुत बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  2. थोड़ा बहुत ही समझ आसका।

    ReplyDelete
  3. firanta,mongra,goller,chamhulhin,mazaa aagaya,sanju bhaiya.badhai aapko aur raja ram jee ko ,badka guru jee ki to aapne .............

    ReplyDelete
  4. oh, koshish to bhut kee sara pdh skun or smej skun, pr sara smej nahee aaya fir bhee kuch kuch smej aya jaise ye"खाल्‍हे म देहे डब्‍बा म अपन बिचार अउ सुझाव जरूर लिखहू ........" means post ur comments in empty box" hai na ha ha "

    Regards

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा सर. आभार.

    ReplyDelete
  6. हा हा हा बने कहेव गा ,महु हर सीक्शाकर्मी मन के अ‍इसन्हे रुर बस मा देखे रहेव

    ReplyDelete
  7. अइसने एको झन चमकुलिया मेडम ह इसकुल के शोभा बढाही त कोन ल् शिकायत रही गा , हमरो गाँव मे अइसने मेडम रतीस अव जाँच अधिकारी आके पुछ्तीस त हमु मन कही देतेन कि मेडम ह एक दम बढिया हे , येकर आय ले गाँव के सब लइका मन सुधर गे हे । 10 बजे स्कुल लगथे फेर लइका मन ह 9 वे बजे स्कुल आ जथे । अव ये साल तो स्कुल अवइया लइका मन के सँख्या भी बाढ गे हे । एको झन अव ऐसने मेडम के हमर गाँव मे पोस्टिँग करा दे साहब ताहन गाँव के सब लइका पढॆ बर आही । हमर गाँव ह पुरा साक्षर हो जाही । सरकार ह अतक पैसा खरचा करके " सर्व शिक्षा अभियान " चलावत हे तेकर जरूरत नइ पढ़े । डोकरा मन घलो स्कूल जायेल धर लेही । पुरा गाँव ह साक्षर हो जही अव सरकार के पइसा घलोक बाँच जही ।

    ReplyDelete

.............

संगी-साथी